Follow by Email

Monday, 19 December 2011

भारत-भूमि

                                             भारत- भूमि 




















मुझे इस देश से जन्मभूमि के समान स्नेह होता जा रहा है |
यहाँ के श्यामल-कुञ्ज ,घने जंगल ,
सरिताओं की माला पहने हुए शैल-श्रेणी ,हरी-भरी वर्षा 
गर्मी की चांदनी ,शीतकाल की धूप,और भोले कृषक तथा 
सरला कृषक-बालिकाएं बाल्यकाल की सुनी हुई कहानियों की जीवित प्रतिमाएं हैं |
यह स्वप्नों का देश,यह त्याग  और ज्ञान  का पालना,
यह प्रेम  की रंगभूमि -भारतभूमि  क्या  भुलाई  जा सकती है?
कदापि नहीं | 
अन्य देश मनुष्यों की जन्म-भूमि है ,यह भारत मानवता की जन्मभूमि है  |
                  x         x         x
  अरुण यह मधुमय देश हमारा |

                                       
 जहाँ पहुंच अनजान क्षितिज को मिलता एक सहारा |                                                                                            
                                                           
                   x          x             x
                                                                                         
                                              -कार्नेलिया  (चन्द्रगुप्त)  




                              

No comments:

Post a Comment